2021-22 Budget: इस बार सैलरी वालों को मिलने वाला है बड़ा तोहफा

बस कुछ ही दिनों बाद india का 2021-22 Budget पेश होने वाला है। हर बार की तरह इस बार भी तमाम वर्गों के लिए कुछ न कुछ जरूर होगा। इस Budget से सबसे अधिक उम्मीद लगा कर बैठे हैं नौकरीपेशा लोग। नौकरी करने वाले Middle Class को इस बार Budget में Section 80C के तहत Tax छूट पाने की सीमा बढ़ने की उम्मीद लग रही है। अगर Section 80C के तहत सीमा बढ़ती है तो इससे Middle Class को Tax से काफी राहत मिलेगी।

क्या है Budget से उम्मीद?
अभी Section 80C के तहत कुल 1.5 लाख रुपये तक पर Tax छूट पाई जा सकती है। उम्मीद की जा रही है कि इसे बढ़ाकर दो लाख रुपये किया जा सकता है। FICCI ने तो ये तक कहा है कि इनकम Tax के सेक्शन 80C (Section 80C) के तहत Tax छूट लिमिट को दोगुना बढ़ाकर तीन लाख रुपये तक कर देना चाहिए।

बच्चों की Tution फीस पर भी मिलता है फायदा
Section 80C के तहत बच्चों की Tution फीस पर भी Tax छूट मिलती है। हर साल अधिकतम दो बच्चों की Tutions फीस पर यह छूट मिलती है। हालांकि, इसके लिए आपको स्कूल की तरफ से जारी फीस का Certificate देना पड़ता है। बता दें कि यह सेक्शन 80C के तहत आने वाला एकमात्र खर्च है, जो निवेश के दायरे में नहीं आता है।

Tax छूट के लिए 31 मार्च तक निवेश जरूरी
अगर आप सेक्शन80C के तहत Tax छूट का लाभ उठाना चाहते हैं तो आपको वित्त वर्ष खत्म होने से पहले निर्धारित निवेश माध्यमों में निवेश करना होगा। बता दें कि वित्त वर्ष 1 अप्रैल से लेकर 31 मार्च तक चलता है। यानी आप जिस साल की इस अवधि में निवेश करेंगे, उसी साल के Tax में छूट का फायदा पा सकेंगे।

इससे पहले कब बढ़ी थी 80 की सीमा?
करीब 7 साल पहले। आखिरी बार 2014 में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने Tax छूट की सीमा को 2 लाख से बढ़ाकर 2.5 लाख किया था और साथ ही Section 80C के तहत Tax छूट पाने की सीमा को 1 लाख रुपये से बढ़ाकर 1.5 लाख रुपये कर दिया था। अब देखना होगा कि इस बार 80C के तहत Tax छूट बढ़ेगी या नहीं और बढ़ेगी तो कितनी।

क्या है Section 80C?
आयकर कानून का सेक्शन 80C दरअसल इनकम Tax कानून, 1961 का हिस्सा है। आयकर अधिनियम की Section 80C के तहत अलग-अलग तरह के निवेश पर Tax छूट दी जाती है। अगर आप किसी साल अलग-अलग तरह के निवेश पर Tax छूट क्लेम करना भूल गए हैं तो बाद में इनकम Tax रिटर्न फाइल कर Tax एग्जेम्पशन क्लेम कर सकते हैं।

Section 80C के तहत कितनी मिलती है छूट?
Section 80C के तहत 1,50,000 रुपये तक के निवेश पर Tax छूट ली जा सकती है। सीधे शब्दों में कहें तो Section 80C के तहत अलग-अलग तरह के निवेश कर आप अपनी कुल Tax योग्य आय में से 1,50,000 रुपये कम करवा सकते हैं। यह Tax छूट किसी व्यक्ति या हिंदू अनडिवाइडेड फैमिलीको मिलती है।

सेक्शन 80C के तहत कहां-कहां कर सकते हैं निवेश?
Tax बचाने के लिए आयकर की Section 80C के तहत म्यूचुअल फंड के Tax फंड (ईएलएसएस), बैंक की Tax सेविंग्स फिक्स्ड डिपॉजिट स्कीम, एनपीएस, पीपीएफ, जीवन बीमा पॉलिसी, नेशनल सेविंग्स Certificate और पोस्ट ऑफिस की सीनियर सिटिजन सेविंग्स स्कीम में निवेश कर सकते हैं।

किस माध्यम में कितना निवेश, यह आपका फैसला
आपके लिए यह समझ लेना जरूरी है कि सेक्शन 80C के तहत दिए गए निवेश माध्यमों में कितना निवेश करना है, यह फैसला आपको करना होगा। आपको पास कुल सीमा 1.5 लाख रुपये है। अब आप चाहे तो पूरा पैसा एक ही माध्यम में लगा दें या फिर कई तरह के माध्यमों में कुछ-कुछ पैसे लगा दें।

Disclaimer : This article represents the view of the author only and does not reflect the views of the Hindi19 platform in anyway.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here