बच्चों में पेट दर्द को दूर करने के सरल और घरेलु उपाए

वयस्कों की तुलना में बच्चे अधिक संवेदनशील होते हैं। वयस्कों की तुलना में बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी कम होती है। जानकारों का कहना है कि अगर किसी बच्चे के पेट में दर्द हो तो पहले डॉक्टर के पास जाने की बजाय घर पर ही उसे प्राकृतिक तरीके से ठीक करने की कोशिश करें। इसके लिए उन्होंने कुछ सबसे उपलब्ध प्राकृतिक घरेलू उपचारों का उपयोग करके उपाय सुझाए हैं।

तेल – चूंकि दो से पांच महीने के बच्चे के लिए दूध ही एकमात्र भोजन है। ठीक यही पेट फूलने और पेट दर्द का कारण बनता है। इसके लिए आप तेल से मालिश कर सकते हैं। सरसों के तेल में लहसुन की कुछ कलियां डालकर मिलाएं। ओवन से निकालें और ठंडा होने दें। बच्चे के पेट की हल्की गर्माहट से मालिश करें। आप अपने हाथ की हथेली पर नारियल का तेल या जैतून का तेल रगड़ कर भी अपने बच्चे के पूरे शरीर की मालिश कर सकती हैं।

हॉट टॉवल शेक- आप कभी-कभार गर्म शेक के साथ पेट में दर्द देख सकते हैं। कुसुम को गर्म पानी में एक तौलिये पर भिगो दें। आप तौलिये से पानी अच्छी तरह निकाल कर बच्चे के पेट पर रख सकती हैं, ध्यान रहे कि तौलिया ज्यादा गर्म न हो.

कैमोमाइल चाय – कैमोमाइल चाय पीने से पाचन तंत्र के ऊपरी हिस्से में मांसपेशियों को आराम मिलेगा। यह पेट में ऐंठन और संकुचन से राहत देता है। साथ ही बच्चे को पुदीने की पत्तियों वाली चाय पिलाएं, इससे पेट दर्द कम हो सकता है। दर्द को जल्दी कम करने और राहत देने के लिए अदरक की चाय दें।

व्यायाम – व्यायाम शब्द से डरते हैं? आश्चर्य है कि इतने छोटे बच्चे को व्यायाम कैसे करें? दो साइकिल सवारों की तरह बच्चे के पैरों को आगे-पीछे करें। इससे बच्चे को पेट फूलने लगेगा, जिससे गैस बाहर निकालने में मदद मिलती है। एक घंटे बाद ऐसा करें। पेट दर्द धीरे-धीरे कम हो जाता है।

अदरक, नींबू और शहद का मिश्रण – एक कप गर्म पानी में दो बड़े चम्मच नींबू का रस, अदरक का रस और शहद मिलाएं । बच्चे को पीने दो। अदरक अपच की समस्या को दूर करता है।

सौंफ का पानी यानी एक मुट्ठी सौंफ का पानी उबाल लें। इस पानी को बच्चे को बार-बार पिलाते रहें। यह 6 महीने और उससे अधिक उम्र के बच्चों पर लागू होता है।अदरक – अदरक अपच या पेट की गैस से राहत दिलाने में बहुत कारगर होता है। बेबी फ़ूड में अदरक डालें। बच्चे को सीधे दूध न पिलाएं। अदरक 6 महीने या उससे अधिक उम्र के बच्चों को खिलाई जा सकती है

जीरा – एक गिलास पानी में आधा चम्मच जीरा मिलाएं। थोड़ी देर बाद बच्चे को दें जीरे में मौजूद अच्छा एंजाइम बच्चे में अपच की समस्या को दूर करता है। इसे छह महीने या उससे अधिक उम्र के बच्चे को दें।

इलाका बेबी फ़ूड, पाउडर मसाला मिक्स। इलायची में पोटेशियम, कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम और विटामिन सी होता है जो पेट से गैस को बाहर निकालता है। इतना सब होने के बाद भी अगर पेट दर्द कम नहीं होता है तो आप डॉक्टर की सलाह से बच्चे को दवा जरूर दें।

Disclaimer : This article represents the view of the author only and does not reflect the views of the Hindi19 platform in anyway.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here